Mulayam Singh Quotes in Hindi – मुलायम सिंह यादव सुविचार हिंदी में

Read High Quality Mulayam singh Yadav Quotes in Hindi with images. मुलायम सिंह समाजवादी पार्टी के मुखिया और संयोजक जिन्होंने अपने दम और सामर्थ से इस पार्टी को जन्म दिया।  एक फलदार वृक्ष के रूप परिवर्तित कर सेवा की। मुलायम सिंह राजनीतिक गलियारे में ऊंची प्रतिष्ठा रखते हैं। उनका आदर उनकी पार्टी ही नहीं बल्कि विपक्षी पार्टी के लोग भी करते हैं।

इस लेख में मुलायम सिंह जी के सुविचार अनमोल वचन और प्रेरणादायक वाक्यों को पढ़ सकेंगे उसका संकलन प्राप्त कर सकेंगे।

मुलायम सिंह वैसे तो राष्ट्रीय नेता के तौर पर जाने जाते हैं। किंतु उनकी पहचान देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश से है जहां उनकी पार्टी काफी समय तक सत्ता पर अपना मजबूत पकड़ बनाए रही।  मुलायम सिंह जी उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के तौर पर भी कार्यरत रहे।

उसके बाद उन्होंने दिल्ली के संसद तक अपनी पहुंच बनाने में कामयाब रहे।

मुलायम सिंह जी – अटल बिहारी , लालकृष्ण आडवाणी , सुषमा स्वराज , नरेंद्र मोदी आदि के समय से पहचान रखते हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश को समाजवाद और जनकल्याण की भावना से एक सुव्यवस्थित शासन देने का प्रयास किया। उनकी सदैव यह इच्छा रही वह विभिन्न मतभेदों और आलोचनाओं को दरकिनार करते हुए अपने राज्य की सेवा पूरी निष्ठा के साथ कर सकें।  उन्होंने अपने सामर्थ के अनुसार राज्य की सेवा भी की।

मुलायम सिंह सुविचार हिंदी में – Mulayam Singh Quotes in hindi

देश में अनेकों जाति , पंथ , मजहब आदि हैं

इन सभी को दरकिनार करते हुए

देश में समाजवाद का विस्तार

किया जाना चाहिए यह देश की मांग है। । 

जातिगत भेदभाव मनुष्य को उन्नति के मार्ग में

बाधा उत्पन्न करती है , आवश्यकता है

जातिगत विचार से ऊपर उठकर

सभी को स्वीकार करने की। । 

आवश्यक नहीं है कि विरासत में सब कुछ मिले

तभी महान बन सकते हो , संघर्ष करके भी

सब कुछ प्राप्त करके महान बना जा सकता है। । 

दूसरे का दुख वह व्यक्ति सबसे अच्छा समझ सकता है

जिसने उस दुख को स्वयं अपने जीवन में झेला हो। । 

मनुष्य का कर्तव्य है , लक्ष्य को निर्धारित करते हुए

अपने कार्य को निरंतर करते रहे

परिणाम उसके हाथ नहीं है

किंतु संघर्ष उसके हाथ अवश्य है। । 

दीन-दुखियों के दुख में शामिल होना

कोई बुराई का विषय नहीं है

उन दुखियों के आंसू को पोंछना

समाजवाद का अंतिम लक्ष्य है। । 

एक सफल नेतृत्व वह व्यक्ति कर सकता है

जिसके पीछे हजारों दुआएं कार्य करती है। । 

भ्रष्टाचार की डोरी पकड़े जो व्यक्ति

सब कुछ प्राप्त कर लेता है

वह सदैव अशांत और दुख का भागीदार बनता है। । 

मानव कल्याण के राह में जाति-पाती का कोई अर्थ नहीं

इससे ऊपर उठना होगा ,

अपने स्वयं के विचारों को त्यागना होगा

और समाज का हिस्सा बन उनके दुखों को सहना होगा। । 

10 

जो कुशल है उसकी सराहना

अपने से आगे बढ़ते देख लोगों को

खुश होकर प्रोत्साहित करना ही

सच्चे जीवन का अर्थ है। । 

11 

कितनी भी कठिन समस्या हो

चाहे उसका परिणाम कितना भी गंभीर हो

जो सत्य के साथ है वही निडर रह सकता हे। । 

12 

ऊंचे मुकाम पर पहुंचकर अपने से नीचे वालों को

ऊपर उठाने का प्रयत्न करना चाहिए

ना कि उन्हें नीचे गिराने का। । 

13 

जो राष्ट्र हित में है उसका समर्थन करने में

कोई बुराई नहीं है

चाहे वह किसी भी विचारधारा से संबंध रखता हो। । 

14 

हार-जीत , सुख-दुख यह सब जीवन का अंग है

इन सभी को खुले हृदय से

स्वीकार करने वाला व्यक्ति ही महान है। । 

15 

देश की आजादी के लिए

छोटे-बड़े , अमीर गरीब सभी ने संघर्ष किया है

आजादी के पश्चात सभी को

सम्मान और अधिकार एक रूप से मिलना चाहिए। । 

16 

जो लोग सत्ता के मद में चूर होकर

अपने कर्तव्यों को भूल जाते हैं

यह वह लोग होते हैं जो

कुछ समय पश्चात धूल में मिल जाते हैं। । 

17 

जनता के दुख को कोई दुखी ही समझ सकता है

राजशाही में पले बढ़े लोग इस दुख को क्या जाने। । 

18 

देश की उन्नति उस दिन सार्थक रूप से

देखी जा सकती है जब

देश का प्रत्येक व्यक्ति

समाजवाद का अनुपालन करे। ।

 

 

मुलायम सिंह

मुलायम सिंह वैसे तो राष्ट्रीय नेता के तौर पर विख्यात हैं , किंतु उनका मूलाधार उत्तर प्रदेश की राजनीति से रहा है। यहां उन्होंने लंबे समय तक मुख्यमंत्री के पद पर जनता की सेवा की है। उत्तर प्रदेश मुलायम सिंह को जो प्रसिद्धि और ख्याति मिली। उससे उन्होंने राजनीति के गलियारे में शीर्ष स्थान प्राप्त किया।

इनका वैसे तो छोटे-बड़े सभी विवादों से सामना होता रहा।  अपने कार्यकाल में इन्होंने कानून व्यवस्था को मजबूत करने और समाज को सम्मानजनक स्थिति में लाने का निरंतर प्रयास किया। किंतु एक विवाद के साथ इनका नाम अमिट अक्षरों में दर्ज हो गया। वह विवाद बाबरी विवादित ढांचा को गिराने के पश्चात प्रशासन द्वारा किए गए कार्यवाही है।

इस कार्यवाही के पश्चात मुलायम सिंह जी को अनेकों प्रकार से भर्त्सना और आलोचना का सामना करना पड़ा। लोग यहां तक कि उन्हें विधर्मी तक कहने लगे। इनका नाम दूसरे धर्म के  साथ जोड़ा गया।  जिस प्रकार प्रशासन की कार्यवाही साधु-संतों और निहत्थे लोगों पर हुई वह जो बनी है नहीं था।

यह कार्यवाही कानून व्यवस्था को बनाए रखने और बड़े रूप में दंगा ना भड़के इसके लिए किया गया था। उस समय जिस प्रकार का माहौल बन गया था शायद उस परिस्थिति में इन्होंने यह निर्णय लिया होगा।

समाजवादी पार्टी को एक मजबूत वृक्ष बनाकर इन्होंने उत्तर प्रदेश के माध्यम से भारतीय जनता को सौंपा। जिसका समाज का कल्याण करना और समानता का अधिकार दिलाना एकमात्र लक्ष्य है। आज उनके पुत्र अखिलेश सिंह यादव इस पार्टी के मुखिया के तौर पर कार्यभार संभाला हुआ है।

अखिलेश सिंह भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर कार्य कर चुके हैं , वह भी अपने पिता के भांति कुशल राजनेता है।

 

यह भी पढ़ें

Swami vivekanand suvichar 

Indian Army Quotes in Hindi

Hindi suvichar on life

Subhashita sanskrit quotes with hindi meaning

Prernadayak anmol vachan and suvichar in hindi

Shayari collection for whatsapp status

Hindi quotes on time

Hindi love quotes and shayari

Struggle quotes in hindi

Best hindi suvichar and anmol vachan

Hindi quotes on mother

Health quotes in hindi

Shivaji maharaj suvichar 

Anmol vachan in hindi 

Pushpendra kulshrestha Quotes in Hindi

आर एस एस के सुविचार

लालकृष्ण आडवाणी सुविचार

प्रणब मुखर्जी के सुविचार

कंगना रनौत के सुविचार

 

Leave a Comment