Lata Mangeshkar Quotes in Hindi – लता मंगेशकर

लता मंगेशकर संगीत के क्षेत्र में वह हस्ती है जिसे पूरी दुनिया जानती है यूं ही नहीं उन्हें सुर साम्राज्ञी कहते हैं। इस लेख में आप लता मंगेशकर जी के सुविचार , अनमोल वचन और प्रेरणादायक वाक्यों का संकलन प्राप्त करेंगे। संभवत उनके अनमोल वचन आपके जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने में कारगर होंगे।

संगीत के क्षेत्र में लता मंगेशकर जी ने जो नाम कमाया है , आज वह पूरी दुनिया सम्मान के साथ इस नाम को लेने पर बाध्य है। लता मंगेशकर को संगीत का ज्ञान और प्रसिद्धि विरासत में प्राप्त नहीं हुई। उन्होंने इसके लिए दिन-रात संघर्ष किया , कड़ी मेहनत की तब जाकर आज वह इस प्रसिद्धि के शिखर पर विराजमान है।

बचपन में जब लता जी ने दुकान से कोई सामान खरीदा , दुकान वाले ने यह जानते हुए कि उनके पिता पंडित दीनानाथ मंगेशकर है पैसे लेने से इनकार कर दिया। पैसे न लेने की बात उन्होंने पिताजी से कह सुनाई , जिसपर उनके पिताजी नाराज हुए और स्वयं का नाम कमाने के लिए प्रेरित किया।

आज उनके पिताजी की प्रेरणा का ही फल है कि लता जी ने संगीत के क्षेत्र में सभी सम्मान को लगभग प्राप्त कर लिया है। आज उनके स्वर पर शोध करने के लिए अमेरिका के बड़े बड़े वैज्ञानिक भी लालहित है ।

लता मंगेशकर के सुविचार – Lata Mangeshkar Quotes in Hindi

बिना ईश्वर की कृपा ,

गुरु के आशीर्वाद

और माता-पिता की परवरिश के

प्रसिद्धि प्राप्त नहीं होती। ।  

 

जीवन के सर्वोच्च शिखर पर पहुंचने के लिए

कठिन साधना की आवश्यकता होती है। । 

 

3

जो जल्दी शिखर को प्राप्त करते हैं

वह उतनी ही गति से नीचे भी आ जाते हैं

अभ्यास के रूप में साधना

जीवन को नया रंग देता है। । 

 

4

किसी भी गुरु को दुखी करके

उसके द्वारा दी गई शिक्षा का

सदुपयोग नहीं किया जा सकता। । 

 

5

कठिन साधना करके भी

जो ज्ञान का अर्जन करता है

पुण्य का भंडार एकत्रित करता है

एक क्षण के क्रोध से

वह सब नष्ट हो जाता है। । 

 

6

जो समाज से पाया है ,

उसे समाज को लौटा देना ही

महापुरुषों का कर्तव्य होता है। ।

Best Lata Mangeshkar Quotes in Hindi

7

एक शिक्षक अपनी शिक्षा को

जिस प्रकार समाज में बांट देता है

उसी प्रकार प्रत्येक मनुष्य का

कर्तव्य होना चाहिए , समाज के हित में

अपना योगदान सुनिश्चित करें। । 

 

8

संगीत आत्मा की आवाज है

गायक केवल शब्दों को बोलता है

भावनाएं अंतरात्मा की आवाज बनती है। । 

 

9

एक गायक की भावनाएं ही

उसके संगीत का मूल आधार बनती है। । 

 

10

संगीत के क्षेत्र में जिस दिन

अहंकार मन में आ गया

उस दिन संगीत ज्ञान आपका

बस समझो शून्य  गया हो । । 

Lata Mangeshkar Quotes and one liners

11

मेरा जो संगीत ज्ञान है , वह मैं अपने देश को सौंप कर जाऊंगी। ।

 

12

संगीत एक साधना है , एक पूजा है

इसका व्यवसाय करना उचित ना रहेगा। । 

 

13

व्यक्ति जितना सच्चा होता है

उतना ही वह महान होता है। । 

 

14

व्यक्ति के भीतर की छुपी भावनाएं

उसके स्वर तंत्रीयों को प्रभावित करती है। । 

 

15

संगीत एक ईश्वर है , साधक पुजारी

ईश्वर को मनाने के लिए

साधक प्रत्येक दिन

अभ्यास रूपी पूजा को करता है। । 

 

16

सफल साधना बिना गुरु के संभव नहीं है

गुरु भी बिना साधना के सफल नहीं है। । 

 

यह भी पढ़ें

Anmol vachan in hindi 

Swami vivekanand suvichar 

Indian Army Quotes in Hindi

Hindi suvichar on life

Subhashita sanskrit quotes with hindi meaning

Prernadayak anmol vachan and suvichar in hindi

Shayari collection for whatsapp status

Hindi quotes on mother

Health quotes in hindi

Shivaji maharaj suvichar 

Hindi quotes on time

Hindi love quotes and shayari

Struggle quotes in hindi

Best hindi suvichar and anmol vachan

Pushpendra kulshrestha Quotes in Hindi

आर एस एस के सुविचार

लालकृष्ण आडवाणी सुविचार

प्रणब मुखर्जी के सुविचार

कंगना रनौत के सुविचार

मुलायम सिंह यादव सुविचार

लता मंगेशकर

लता मंगेशकर ने आज जो प्रसिद्धि हासिल की है , वह उनको संघर्ष से प्राप्त हुआ है। लता जी ने आरंभिक जीवन में काफी कठिन मेहनत की जिसका परिणाम उन्हें प्राप्त हुआ है। वह अपने संगीत को रिकॉर्ड कराने के लिए अकेले रेलगाड़ी से भी सफर किया करती थी और दूर जाया करती थी। यह उनके हिम्मत और जज्बे का ही परिणाम है कि आज वह संगीत के क्षेत्र में जानी-मानी हस्ती है।

उन्होंने सब कुछ प्राप्त करके भी कभी अहंकार और क्रोध का साथ नहीं किया और ना ही उन्होंने कभी अपने जीवन में साधना को छोड़ा।  आज भी वह उम्र के इस पड़ाव पर आकर नियमित रूप से साधना करती हैं।  उनका मानना है बिना साधना किए संगीत का शुद्ध रूप प्राप्त नहीं किया जा सकता।

संगीत सदैव सीखने की चीज है , इसमें कोई संपूर्ण रुप से सीखा हुआ नहीं होता। बड़े-बड़े सूरमा भी नित्य-निरंतर संगीत का अभ्यास इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें नए प्रयोगों से परिचय हो सके , उतार-चढ़ाव आदि का ज्ञान स्मरण रहे। मैं भी अपने जीवन में नित्य निरंतर अभ्यास के रूप में साधना करती हूं।

सफलता जिन व्यक्तियों को रातो-रात मिल जाती है , ऐसी सफलता अधिक समय तक नहीं टिक पाती क्योंकि यह मनोरंजन का विषय बन जाती है।  जबकि संगीत मनोरंजन से ऊपर उठकर भक्ति और साधना का रूप ले लेती है। जो लोग संगीत को व्यवसाय मार्ग बना लेते हैं वह कभी अपना भला नहीं करते और ना ही संगीत का अभ्यास करने वाले विद्यार्थी का।

Leave a Comment