लालकृष्ण आडवाणी सुविचार – Lal Krishna Advani Quotes in hindi

Best of Lal Krishna Advani Quotes which is inspiring and motivational in Hindi for you.

लालकृष्ण आडवाणी  भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं में शुमार है माना जाता है। भारतीय जनता पार्टी को मजबूती प्रदान करने में इनका बड़ा योगदान है , यही कारण है कि 2004 के बाद प्रधानमंत्री पद की प्रमुख दावेदारी आडवाणी जी रखते थे।

इस लेख में आप अडवाणी जी के जीवन और उनके सुविचार , अनमोल वचन तथा प्रेरणादायक विचारों से परिचित हो सकेंगे।

लालकृष्ण आडवाणी सुविचार – Lal Krishna Advani Quotes

लालकृष्ण आडवाणी जिन्हें भारतीय जनता पार्टी के पितामह या महारथी के रूप में भी जाना जाता है। इनकी प्रसिद्धि उस समय और अधिक बढ़ गई जब बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा विध्वंस करने और राम मंदिर के निर्माण के लिए रथ यात्रा निकाली थी। इनकी रथ यात्रा और बिहार में हुई गिरफ्तारी ने रातो रात लालकृष्ण आडवाणी को प्रसिद्धि के शिखर पर बिठा दिया था।

पूरा भारत और भारत के घटनाक्रम में रुचि रखने वाले देश लालकृष्ण आडवाणी को जानने लगे थे। यहां से उन्होंने भारतीय जनता पार्टी में एक मजबूत और कद्दावर नेता के तौर पर अपना लोहा मनवाया।  आडवाणी जी ने भारतीय राजनीति में अहम पदों पर भी कार्यभार संभाला। एक समय ऐसा था जब नरेंद्र मोदी और लालकृष्ण आडवाणी जी के बीच प्रधानमंत्री पद की दावेदारी की जंग आरंभ हुई। क्योंकि दोनों ही पार्टी के सशक्त नेता और लोकप्रिय माने गए।

 

1

भाग्य से अधिक कर्म पर

ध्यान केंद्रित करना चाहिए

कर्म हमारे हाथों में है भाग्य नहीं। ।

 

2

लक्ष्य को प्राप्त करना है तो

नींद का मोह त्यागना होगा। ।

 

Best Lal Krishna Advani Quotes in Hindi

3

आपके कर्म , विचार शुद्ध होंगे

तो दुनिया आपकी और

आप दुनिया के होंगे। ।

 

4

आपके कर्म आपको सम्मान दिलाते हैं

इसके लिए किसी के आगे

झुकने की आवश्यकता नहीं है। ।

 

साम्राज्यवादी शक्तियों से हमें आजादी मिल चुकी है

अब आवश्यकता है हम

अधिनायकवाद की मानसिकता को निकाल फेकें। ।

 

6

लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक है कि

विपरीत विचारधारा के प्रति भी सहिष्णुता का भाव हो। ।

 

7

बुरे कर्मों को करना जितनी निंदा की बात है

उन कर्मों को छुपाना उससे ज्यादा निंदनीय है। ।

 

8

धोखेबाजी और षड्यंत्र से किए गए

एकत्रित धन

अधिक दिनों तक नहीं टिक पाते। ।

 

9

किसी अपराध का दोषी ,

जितना जिम्मेदार उस अपराध के लिए होता है

उतना ही उसको संरक्षण देने वाला व्यक्ति भी। ।

 

10

आपकी घनिष्ठ मित्रता को देखकर दूसरे लोग जलेंगे

इसको तोड़ने का हर संभव प्रयास करेंगे , किंतु आपको

इन अफवाहों को दरकिनार कर आगे बढ़ना होगा। ।

 

Lal Krishna Advani Quotes and Suvichar

 

11

भारत सदैव से हिंदू राष्ट्र रहा है

और यह

अखंड काल तक हिंदू राष्ट्र ही रहेगा। ।

 

12

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत में देवी-देवताओं को

न्याय के लिए अदालत के चौखट पर ले जाया जाए। ।

 

13

किसी पौधे को लगाने से जितनी खुशीयाँ   मिलती है

उसके स्वरूप को देखकर उससे अधिक प्रसन्नता होती है। ।

 

14

देश के विकास में युवाओं को आगे आना होगा

उन्हें अपने कर्तव्यों का निष्ठा पूर्वक निर्वाह करना होगा

तब जाकर यह राष्ट्र समृद्ध हो सकेगा। ।

 

15

देश किसी एक जाति पंथ का नहीं है

यह भारत भूमि पर रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति का है

इसकी उन्नति निरंतर होती रहे इसका दायित्व सभी का है। ।

 

16

सत्ता के लोग सोने का स्वांग करते रहेंगे

उनको नींद से जगाना हम देशवासियों का कार्य है

हमने उन्हें कार्य करने के लिए भेजा है , सोने के लिए नहीं। ।

 

17

न रिश्वत देंगे न रिश्वत लेंगे इस

प्रण के साथ

राष्ट्र उन्नति में भागीदारी बनेंगे। ।

 

18

भ्रष्टाचार ने देश की जड़ों को कमजोर बना दिया है

अब अवसर है

सभी देशवासी एकजुट होकर इन जड़ों को उखाड़ फेंके। ।

 

19

जिन भ्रष्टाचारियों ने जिन अवसर वादियो ने

गलत तरीके से धन कमाया है

उनका धन देश को सौंप देना चाहिए। ।

 

20

देश से गुप्त धन ले जाकर विदेशों में जमा करने वाले

सच्चे देशभक्त नहीं हो सकते

ऐसे धन को काला धन घोषित कर

देश के हित में प्रयोग करना चाहिए। ।

 

Lal Krishna Advani Anmol Vachan

 

21

कभी-कभी कार्यक्रम का महत्व नहीं होता

कभी-कभी कार्यकर्ताओं का महत्व होता है। ।

 

22

हमारा आज का संघर्ष आने वाली पीढ़ियों को

उज्जवल भविष्य प्रदान करने का कार्य करेगी। ।

 

23

जिन्हें अपने पद और प्रतिष्ठा का

घमंड हो जाता है

यह घमंड अधिक टिक नहीं पाता। ।

 

24

लोकतंत्र , जो जनता का शासन कहलाता है

ऐसे लोकतंत्र की हत्या कर देना निंदा का विषय है। ।

 

25

जिस प्रकार भारत मेरी माता है ,

उसी प्रकार पार्टी भी मेरी माता है

मैं एक बेटे के नाते कार्य कर रहा हूं

यह कृपा का विषय नहीं हो सकता। ।

 

26

बहुत भावनात्मक लोग होते हैं ,उनके लिए कोई आलोचना करें

तो उनकी आंखों में आंसू आ जाते हैं

कोई उनकी प्रशंसा करें तो उनकी आंखों में आंसू आ जाते हैं। ।

 

27

सदन की गरिमा के अनुसार आचरण करना

राजनेताओं का कर्तव्य होना चाहिए

वह सदन में पहुंचकर लोगों के द्वारा किए गए

वादों को भूल जाते हैं और विलासिता में लिप्त हो जाते हैं।

ऐसा करना लोकतंत्र के लिए बड़ा खतरा है। ।

 

Lal Krishna Advani Quotes with Images

 

28

कोई भी राजनेता सच्चा व्यक्तित्व का वही हो सकता है

जो दलगत राजनीति से

ऊपर उठकर देश हित में कार्य करता है। ।

 

29

अंग्रेजों की गुलामी को मैंने बहुत करीबी से देखा है

उस साम्राज्यवाद से छुटकारा मेरे जीवन की स्मृतियां हैं। ।

 

30

भारत आज साम्राज्यवाद से आजाद हो गया है

किंतु गुलामी मानसिकता अभी भी लोगों में व्याप्त है। ।

 

31

भारत की सबसे बड़ी उपलब्धि

भारत में लोकतंत्र का होना है। ।

 

32

जाति , वर्ग , भिन्नता विकास के मार्ग में बाधक है

इन सभी को त्याग कर सभी को एक साथ

आना होगा बिना इसके विकास संभव नहीं है। ।

 

33

साम्राज्यवादी शक्तियों ने हमें संगठित होता देख

दो भागों में विभाजित किया था

आज उन खाइयों को पाटने की आवश्यकता है। ।

 

यह भी पढ़ें

Hindi quotes on mother

Health quotes in hindi

Shivaji maharaj suvichar 

Anmol vachan in hindi 

Swami vivekanand suvichar 

Indian Army Quotes in Hindi

Hindi suvichar on life

Subhashita sanskrit quotes with hindi meaning

Prernadayak anmol vachan and suvichar in hindi

Shayari collection for whatsapp status

Hindi quotes on time

Hindi love quotes and shayari

Struggle quotes in hindi

Best hindi suvichar and anmol vachan

Pushpendra kulshrestha Quotes in Hindi

प्रणब मुखर्जी के सुविचार

 

लालकृष्ण आडवाणी संक्षिप्त जीवन परिचय

लालकृष्ण आडवाणी जी की प्रसिद्धि राजनीति के क्षेत्र में ऊंची है। इन्हें स्वयं की पार्टी से जितना सम्मान मिलता है उतना ही अन्य पार्टियों से भी।  कई बार ऐसे अवसर देखने को मिले हैं , जब इन्होंने पार्टी की विचारधारा से ऊपर उठकर मानव कल्याण का कार्य किया।

इन्होंने स्वार्थ और छल की राजनीति से सदैव किनारा किया।

लालकृष्ण आडवाणी जी ने भारतीय जनता पार्टी को मजबूत नीव प्रदान की।  आज भारतीय जनता पार्टी जितनी सशक्त हो सकी है उसमें लालकृष्ण आडवाणी और अटल बिहारी बाजपेई जैसे लोह पुरुष का संघर्ष रहा है। इन्होंने कितने ही एलाइंस बनाकर भारतीय जनता पार्टी को मजबूती प्रदान करने का कार्य किया।

लालकृष्ण आडवाणी आजादी से पूर्व कराची में रहा करते थे।

इन्होंने साम्राज्यवादी अर्थात अंग्रेजों की शासन व्यवस्था को भी काफी करीबी से देखा था।  मानवीय मूल्यों की किस प्रकार क्षति हो रही थी , उसको भी अपनी आंखों से साक्षात देखा था। इनकी कल्पना आरंभिक जीवन से ही थी कि उनका देश साम्राज्यवादी शक्तियों से मुक्त हो जाए। यह अवसर भी 1947 में देखने को उन्हें मिला।

भारत देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हो गया इन्होंने राजनीति के क्षेत्र में नए-नए कीर्तिमान स्थापित किए। इनकी प्रतिष्ठा दिन-प्रतिदिन राजनीति क्षेत्र में बढ़ती गई। इसको विरोधी पार्टी सहन नहीं कर सके और उनके सम्मान और उनकी प्रतिष्ठा स्वयं की पार्टी में ना होने का आरोप लगाकर कितने ही अवसरों पर उन्हें पार्टी के प्रति विचलित करने का प्रयत्न किया।

किंतु लालकृष्ण आडवाणी अपने पार्टी के प्रति वचनबद्ध है और निष्ठा के साथ सेवा कर रहे हैं। जिसके कारण उन्होंने अफवाहों पर ध्यान न देकर पार्टी की सेवा करने में अपना जीवन समर्पित किया।

Follow us

Facebook page

Leave a Comment