Rss Quotes in Hindi – आर एस एस के सुविचार

Today we will read rss quotes in hindi with images. आर एस एस (RSS) के कोट्स इस लेख में आपको पढ़ने को मिलेंगे। यह जीवन जीने की शैली और मानवीय मूल्यों को प्रदर्शित करती है।  देशभक्ति को हृदय में जागृत करती है। इन लेखों के माध्यम से आप अपने जीवन को एक नया आयाम दे सकते हैं।

इस लेख में राष्ट्रीय स्वयंसेवक से संबंधित सुविचार , अनमोल वचन तथा मार्गदर्शन से संबंधित ज्ञान का भंडार मिलने वाला है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ विश्व स्तर का सबसे बड़ा संगठन है , जो भारत देश को अपनी मातृभूमि मानकर माता के समान आदर करता है।  सामाजिक , सांस्कृतिक , वैचारिक पृष्ठभूमि को सुदृढ़ करने के लिए निरंतर संघर्ष करता रहता है। भारत माता को परम वैभव पर ले जाना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की परिकल्पना है।

आज एक आदर्श और विशाल संगठन के रूप में संघ की पहचान स्थापित हुई है। किसी भी विपत्ति या आपदा तथा राष्ट्रीय हित में संघ के स्वयंसेवकों को अग्रणी भूमिका का निर्वाह करते देखा जा सकता है। बाढ़ , भूकंप , राहत , सामाजिक आदि कार्यों में यह सर्वश्रेष्ठ भूमिका का निर्वाह करते हैं।

शायद ही ऐसा कोई संगठन होगा जो निस्वार्थ भाव से समाज की सेवा और राष्ट्र की सेवा में संलग्न रहता है। आज इस लेख में हम राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सुंदर विचारों तथा अनमोल वचनों को लिख रहे हैं।

आर एस एस के सुविचार हिंदी में – Rss Quotes in Hindi

1.

तेरा वैभव अमर रहे मां

हम दिन चार रहे ना रहे। ।

 

2.

देशभर में एक संघ की शाखाएं ही है

जहां प्रातः मातृभूमि की वंदना की जाती है। ।

 

3.

देश की वास्तविक उन्नति समाज से ही संभव है

हमें समाज में रहकर अपने विचारों और कर्मों से

राष्ट्र की उन्नति में योगदान देना चाहिए। ।

 

4.

हिंदुओं को एकत्र करना

तराजू में मेंढक तोलने के बराबर है

एक को रखो दूसरा कूद जाता है। ।

 

5.

भारत में रहने वाला प्रत्येक व्यक्ति हिंदू है

किसी कालखंड में वह हमसे अलग हो गया

जिसके कारण उसकी मान्यताएं बदल गई

किंतु वैचारिक रूप से वह हमारा भाई ही है। ।

 

6.

संघ का स्वयंसेवक इतना सक्षम होता है

कि वह स्वयं समाज का नेतृत्व

कर सकता है चाहे वह कोई भी क्षेत्र हो। ।

 

7.

हिंदू होना कोई शर्म की बात नहीं है

हिंदू एक जीवन शैली है

जो सत्य और सनातन है

हिंदू होने पर गर्व और गौरव का

अनुभव होना चाहिए। ।

 

8.

देश में किसी भी अवसर पर

संघ के स्वयंसेवक की आवश्यकता होती है

तो यह स्वयंसेवक के लिए गौरव का क्षण होता है। ।

 

9.

इतिहास गवाही देता है

संघ की राष्ट्रभक्ति का

सन 65 की लड़ाई में

सैनिकों के साथ

कंधे से कंधा मिलाकर

अहम भूमिका निभाई थी। ।

 

10.

संघ की शाखाएं समय से नहीं

समय संघ की शाखाओं से चला करती है। ।

11.

दुर्लभ है ज्ञान संघ का

जनहित , देशहित लोक हितकारी

बाल संस्कार की नर्सरी

प्रौढ़ वृक्षों की है छटा निराली। ।

Rss Amrit vachan

12.

जीवन का उच्च आदर्श यहां 

बहती भातृत्व की धार है

बच्चे हो या बूढ़े सभी के

हृदय में देशभक्ति की धार है। ।

 

13.

ग्रामीण क्षेत्र में एक प्रतिशत

तथा शहरी क्षेत्र में तीन प्रतिशत का

लक्ष्य जिस दिन प्राप्त हो जाएगा

भारत माता परम वैभव पर स्थापित हो जाएंगी। ।

14.

जाति , वर्ग , पंथ आदि में बठकर

समाज का उत्थान संभव नहीं है

सभी भारत के निवासी है

यह मानकर सभी को एक समान

भाव से गले लगाना होगा। ।

 

15.

जब तक हिंदुस्तान में एक भी हिंदू जीवित है

तब तक यह हिंदू राष्ट्र ही रहेगा। ।

16.

लोगों का क्या है , वह आप पर पत्थर ही फेकेंगे

 यह आप पर निर्भर करता है यह आप पर निर्भर करता है

उन पत्थरों का आप क्या करेंगे

एक समझदार उन पत्थरों से मजबूत नींव डालता है

वही नासमझ अपना मार्ग परिवर्तित करता है। ।

 

17.

दूसरों को सुनाने के लिए जरूरी नहीं कि आप

अपनी आवाज ऊंची करें

अपना व्यक्तित्व ऊंचा करके भी

अपनी बात दूसरों को सुना सकते हैं। ।

 

Best Rss Quotes in Hindi

 

18.

स्वयंसेवक को स्वाद और विवाद

दोनों त्याग कर आगे बढ़ जाना चाहिए

स्वाद छोड़ने पर शरीर को फायदा होता है

वही विवाद को छोड़कर संबंध मजबूत होते हैं। ।

 

19.

पैर में चक्कर , मुंह में शक्कर

दिल में आग , शीश पर फाग। ।

स्वयंसेवक अपने कार्य के प्रति इतने संलग्न रहते हैं वह थक कर नहीं बैठते।  उनकी वाणी इतनी मधुर होती है कि सामने वाले को आकर्षित कर लेती है।  लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सीने में एक ज्वाला सदैव जलता रहता है। अपने शक्ति और पुरुषार्थ को प्रदर्शित करने के लिए सिर पर तथा शरीर पर भगवा वस्त्र धारण करते हैं।

 

20.

स्वयं के फिक्र से तनाव उत्पन्न होता है

वही समाज के फिक्र से लगाव। ।

 

21.

जहां स्वार्थ की सीमाएं समाप्त होती है

वहीं से इंसानियत आरंभ होती है। ।

 

22.

जीवन को बदलने के लिए लड़ना पड़ता है

वहीं जीवन को सुगम बनाने के लिए समझना। ।

Rss Quotes in Hindi with images

23.

सच्चे इंसान की भगवान ,

सदैव परीक्षा लेता है

किंतु साथ नहीं छोड़ता

बुरे लोगों को भगवान

बहुत कुछ देता है

पर साथ नहीं देता। ।

24.

जिसे निभाया ना जा सके ऐसा वादा ना करें

अपनी हदों को पहचान बातें ज्यादा ना करें

इरादा रखो , सदैव आसमान छूने की

साथी तुम्हारा गिर जाए ऐसा इरादा ना करें। ।

 

25.

असफलता के डर से , सफलता का मार्ग क्यों छोड़ते हो

पथ है कटीला तो भी , पीछे क्यों हट ते हो

रखकर हौसला खुद पर देखो , सफल होने से क्यों चुकते हो। ।

 

26.

मैले और गंदे कपड़ों से शर्म मत करो

मैले विचार और मन से शर्म करो

समाज निश्चित बदलेगा एक दिन

जहां हो वहीं रुक कर प्रकाश करो। ।

 

27.

कायनात बदल देता है वह

जिसके पास विश्वास होता है

ऐसे हौसले वालों के संग 

ईश्वर आस पास होता है। ।

 

28.

लोग आपको जरूरत के समय याद करें

तब भी घबराने की आवश्यकता नहीं है

क्योंकि आप उनके लिए उम्मीद की किरण है

जो उनका मार्गदर्शन कर सकती है। ।

यह भी पढ़ें

Hindi quotes on mother

Health quotes in hindi

Shivaji maharaj suvichar 

Anmol vachan in hindi 

Swami vivekanand suvichar 

Indian Army Quotes in Hindi

Hindi suvichar on life

Subhashita sanskrit quotes with hindi meaning

Prernadayak anmol vachan and suvichar in hindi

Shayari collection for whatsapp status

Hindi quotes on time

Hindi love quotes and shayari

Struggle quotes in hindi

Best hindi suvichar and anmol vachan

Pushpendra kulshrestha Quotes in Hindi

लालकृष्ण आडवाणी सुविचार

प्रणब मुखर्जी के सुविचार

कंगना रनौत के सुविचार

 

संघ के सुविचार आपके जीवन में अहम योगदान दे सके , इस आशा के साथ ऊपर संघ के सुविचारों का संकलन तैयार किया है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ देशहित और राष्ट्रभक्ति के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। संघ सदैव निस्वार्थ भाव से भारत माता की सेवा करने में संलग्न रहता है। जाति भेद आदि से ऊपर उठकर या एक समान भाव से सभी को सम्मान और बराबरी का दर्जा देता है। संघ में ऊंचा-नीचा , छोटा-बड़ा आदि का कोई भाव नहीं होता। चाहे व्यक्ति किसी भी जाति , पंथ , समुदाय से हो। यहां सभी एक समान और बराबर माने जाते हैं।

आज संघ की प्रसिद्धि छुपी नहीं है , बड़ी संख्या में लोग इसकी ओर आकर्षित हो रहे हैं और स्वयं सेवक बन रहे हैं। किसी भी देशवासी के लिए यह गौरव का विषय होता है कि वह निस्वार्थ भाव से अपने देश की सेवा कर सके। यही कार्य स्वयं सेवक समाज के बीच रहकर करता है।

Leave a Comment