Kushmanda Mata Quotes in Hindi मां कुष्मांडा के अनमोल विचार

नवरात्रि के चौथे दिन देवी कुष्मांडा की पूजा विधि विधान के साथ की जाती है इस दिन साधक का मन अनाहत चक्र में अवस्थित होता है देवी को आदिशक्ति कहा गया है माना जाता है ब्रह्मांड की रचना देवी के इसी स्वरूप ने किया था इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर माना गया है यह भक्तों को अभय दान देने तथा सभी सिद्धियों को प्रदान करने का कार्य करती है देवता भी इनकी स्तुति कर स्वयं को निर्भीक मानते हैं। प्रस्तुत लेख में देवी कुष्मांडा के अनमोल विचार लिख रहे हैं जो नवरात्रि में आपको भक्ति का मार्ग प्रशस्त करेगी।

Kushmanda Mata Quotes in Hindi कुष्मांडा माता

1.

सुरासंपूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।

दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे 

Navratri Quotes in Hindi (नवरात्रि सुविचार हिंदी में)

Shailputri Quotes in Hindi(माता शैलपुत्री के अनमोल वचन)

2.

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

3.

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सवार्थ साधिके

शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणी नमोस्तुते।

4.

ॐ जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी,

दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तु‍ते

Chandraghanta Mata Quotes in Hindi (माँ चंद्रघंटा के अनमोल वचन)

Brahmacharini Mata Quotes In Hindi (मां ब्रह्मचारिणी कोट्स)

5.

घर आजा एक बार मैया आकर दरस दिखा जा

कब से अखियां तरस रही आकर भोग लगा जा।

6.

कर रहा हूं व्रत मैं उसे तुम स्वीकार कर लेना

अंत समय अपने चरणों में थोड़ा सा स्थान दे देना

7.

है मां तुम पर विश्वास मेरा कभी ना टूटने देना

रूठे चाहे दुनिया कितनी कृपा अपनी बनाए रखना।

8.

नहीं मांगते धन और दौलत ना चांदी ना सोना मां

हम तो मांगे मां तेरे मन में एक छोटा सा कोना मां

Skandamata Quotes in Hindi (मां स्कंदमाता के अनमोल विचार)

9.

भोर होते चिड़ियों का छिड़ गया तराना मां

अब तो मंदिर में आके तुम दरस दिखाना मां।

10.

माता कुष्मांडा आपके घर विराजे

आपका घर परिवार संसार

सुख समृद्धि और वैभव से परिपूर्ण हो

माता रानी की सदा जय हो।

इन लेखों को भी पढ़ सकते हैं

God Quotes In Hindi

Shri Hanuman quotes in Hindi

भोलेनाथ कोट्स, महाकाल स्टेटस | Shiva quotes in hindi

Vishwakarma Puja Quotes in Hindi

Santoshi Mata Quotes

समापन

माता कुष्मांडा की पूजा अति शुभ माना गया है, इस दिन विधि विधान के साथ माता की पूजा करने पर माता तत्काल प्रसन्न होती हैं और सभी मनोवांछित फल देती हैं। हलवा, पूरी तथा दही, मेवे आदि का भोग लगाकर माता की पूजा आराधना करने पर पूजा सफल होती है। माता को यह भोग अति प्रिय है जो भक्त श्रद्धा के साथ माता का भजन तथा पाठ करता है, उसे माता का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त होता है।

उपरोक्त लेख आपको कैसा लगा अपने सुझाव तथा विचार कमेंट बॉक्स में लिखें, ताकि हम लेख को और अधिक आकर्षक बना सकें।

Leave a Comment